Home » beauty news » Mother’s Day के लिए मां का मेकओवर

विशेष रुप से प्रदर्शित

जवान रहो हेयर और ब्यूटी हेल्थ इंडस्ट्रीज न्यूज

Mother’s Day के लिए मां का मेकओवर

प्रसव के बाद जहां मां की जिम्‍मेदारी बढ़ती है वहीं दूसरी तरफ उसके शरीर का शेप भी बिगड़ता है। रात-रातभर जागकर बच्‍चे की देखभाल करने की वजह से महिला अपने शरीर की देखभाल बिलकुल नहीं कर पाती। गर्भावस्‍था के बाद महिला का स्‍तन, पैर, पेट, और लगभग शरीर का पूरा हिस्‍सा प्रभावित होता है।

जिन महिलाओं को जुड़वा बच्‍चे होते हैं, या जिन महिलाओं के बच्‍चे का वजन सामान्‍य से अधिक होता है प्रसव के बाद उनका सामान्‍य स्थिति में आना बहुत मुश्किल होता है। इसके अलावा महिला के पेट के आसपास स्‍ट्रेच मार्क्‍स पड़ जाते हैं।

नियमित व्‍यायाम, कास्‍मेटिक सर्जरी, आदि के जरिये महिलायें प्रसव के बाद भी अपने शरीर को पहले जैसा बना सकती हैं। ‘मॉमी मेकओवर’ एक सर्जिकल प्रक्रिया है जो प्रसव के बाद महिलाओं के शरीर को पहले जैसा बनाने में सहायक है। सर्जरी की इस प्रक्रिया का प्रयोग बहुत पहले से होता आ रहा है और इसके जरिये आसानी से जांघों, पेट, ब्रेस्‍ट आदि को पुराने शेप में ला सकती हैं।

इस मदर्स डे पर महिला के फिटनेस को दोबारा पाने के लिए ऐसे कदम उठाये जायें। इसके बारे में विस्‍तार से बता रहे हैं कॉस्‍मेटिक सर्जरी और स्किन इंस्‍टीट्यूट के कॉस्‍मेटिक सर्जन डॉ. मोहन थॉमस।

गर्भावस्‍था के दौरान ब्रेस्‍ट, पेट, जंघों और योनि में बदलाव होता है। इसके परिणामों के आधार पर निम्‍नलिखित प्रक्रियायें की जा सकती हैं –
1- ब्रेस्‍ट सर्जरी
2- बॉडी री कांटरिंग/टम्‍मी टक
3- वैजिनोप्‍लास्‍टी(यह केवल योनि में बदलाव के लिए है)

ब्रेस्‍ट सर्जरी :

स्‍तन वृद्धि – बढ़े हुए स्‍तनों को सामान्‍य करने के लिए एक प्रकार की प्‍लास्टिक सर्जरी की जाती है, इससे स्‍तनों का आकार सामान्‍य हो जाता है।
ब्रेस्‍ट लिफ्ट – जो स्‍तन लटकने लगते हैं उन्‍हें सामान्‍य करने के लिए यह किया जाता है।
ब्रेस्‍ट रिडक्‍शन – गर्भावस्‍था के बाद बढ़े स्‍तनों को घटाने के लिए यह प्रक्रिया की जाती है।

बॉडी कांटरिंग :

लीपोसक्‍शन – लीपोसक्‍सन एक प्रकार की सर्जरी है जो शरीर में अलग-अलग जगहों पर बढ़ी हुई चर्बी को कम करने के लिए किया जाता है।
एब्‍डामिनोप्‍लास्‍टी – यह कई प्रकार से किया जाता है, जैसे –
ए- पेट के हिस्‍से के दागों को मिटाने के लिए किया जाता है, प्रमुखतया कमर के पास के हिस्‍स इसमें आते हैं।
बी- नाभि के पास के हिस्‍से के लिए भी इस सर्जरी को किया जाता है।
सी- श्रोणि के हिस्‍से भी कभी-कभी बढ़ जाते हैं उसे भी इसके जरिये कम किया जाता है।
वैजीनोप्‍लास्‍टी :
प्रसव के बाद वै‍जाइनल कैनाल के कसाव के लिए इस प्रक्रिया को किया जाता है।
मेकओवर के समय इन बातों का ध्‍यान रखें

प्रसव के बाद भी अगर मां को कोई सामान्‍य या गंभीर स्‍वास्‍यि समस्‍या है तो कॉस्‍मेटिक सर्जरी नहीं की जा सकती है।
सी-सेक्‍शन के जरिये प्रसव कराने वाली महिलाओं को सामान्‍यतया वैजीनोप्‍लास्‍टी की जरूरत नहीं पड़ती है। अगर सामान्‍य प्रसव हुआ है तब योनि में लचीलापन आ सकता है उसे सामान्‍य करने के लिए वैजीनोप्‍लास्‍टी करवाना चाहिए।
प्रसव के तुरंत बाद अतिरिक्‍त सर्जरी से बचना चाहिए, इसके दो प्रमुख कारण हैं – एम मां को समस्‍या हो सकती है और दूसरा बच्‍चे को भी मां की जरूरत होती है।
इस सर्जरी को कराने के लिए किसी विशेष उम्र का होना जरूरी नहीं, मम्‍मी मेकओवर के लिए प्रसव के बाद किसी भी समय इसे करा सकते हैं।
प्रसव के बाद स्‍तनपान, अनिद्रा की समस्‍या, शरीर में बदलाव के कारण मां को मानसिक रूप से समस्‍या हो सकती है, लेकिन बाद में भी इस प्रक्रिया के तहत पहले जैसा शरीर पा सकती हैं।
प्रसव के बाद यौन संबंध बनाना बिलकुल बंद न करें, इससे आप मानसिक रूप से स्‍वस्‍थ होती हैं और यह मां के मेकओवर के लिए बहुत ही अच्‍छा तरीका हो सकता है।

कॉस्‍मेटिक सर्जरी के बाद नियमित व्‍यायाम बहुत जरूरी है, रोज 30 मिनट तक व्‍यायाम कीजिए। खानपान पर विशेष ध्‍यान दीजिए।

About the author

TheHealthCareToday

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com