Home » सिर्फ मीठा ही नहीं ये सब चीज़ें भी डायबिटीज के लिए होती है ज़िम्मेदार
health related जवान रहो डाइट और फिटनेस - Diet & Fitness डायबिटीज लाइफस्टाइल स्वास्थ्य

सिर्फ मीठा ही नहीं ये सब चीज़ें भी डायबिटीज के लिए होती है ज़िम्मेदार

Gurgaon 01 Feb,2019

ज्‍यादा मीठा खाओगे तो डायबिटीज हो जाएगा” ये बात अपने घर में या दोस्‍तों से आपने भी कभी न कभी सुनी होगी। आमतौर पर लोग ये मानते हैं कि डायबिटीज यानी मधुमेह होने का कारण ज्‍यादा सिर्फ मीठा है। जो लोग ज्‍यादा मीठी चीजें खाते हैं उनको डायबिटीज हो जाता है। जबकि ये बात बिल्‍कुल गलत है। डायबिटीज के लिए सिर्फ मिठाई जिम्‍मेदार नहीं है। डायबिटीज होने के कई कारण हो सकते हैं। हालांकि इसके लिए ज्‍यादा मीठी चीजें भी जिम्‍मेदार हो सकती हैं। मधुमेह एक ऐसी बीमारी है जिसमें आपके शरीर की रक्त शर्करा का स्तर बहुत अधिक हो जाता है। ग्लूकोज आपके द्वारा खाए जाने वाले खाद्य पदार्थों से आता है। इंसुलिन एक हार्मोन है जो ग्लूकोज को ऊर्जा देने, आपकी कोशिकाओं में जाने में मदद करता है। मधुमेह रोगियों को आंखों में दिक्कत, किडनी और लीवर की बीमारी और पैरों में दिक्कत होना आम है। डायबिटीज होने के पीछे कई वजह हो सकती है।
मधुमेह रोगियों में सबसे बडा डर मिठाई को लेकर होता है। मधुमेह के रोगी कुछ हद तक अपने संतुलित भोजन के हिस्से के तौर पर मीठा खा सकते हैं। इसके लिए उन्हें अपनी खुराक में कार्बोहाइड्रेट की कुल मात्रा को नियंत्रित करना होगा। मिष्ठान से सिर्फ कैलोरी मिलती है कोई पोषण नहीं। इसलिए मीठे को सीमित मात्रा में लीजिए, लेकिन उसे बिल्कुल दरकिनार मत कीजिए।
कुछ लोगों को यह संदेह होता है कि मधुमेह की समस्या 40 की उम्र पार करने के बाद ही होता है। बच्चों और युवाओं को नहीं होता । जबाकि, बचपन में होने वाला रोग वयस्कों से अलग होता है। बच्चों को जब मधुमेह होता है तो उनका शारीरिक विकास नहीं हो पाता है जिसके कारण बच्चे दुबले होते हैं।यह भी आम धारण है कि मोटापा के कारण मधुमेह होता है। जबकि, हर मोटे लोग मधुमेह से ग्रस्त नही होते हैं। लेकिन मोटे लोगों को मधुमेह की चपेट में आने की संभावना ज्यादा होती है। वजन को सामान्य रखने से कुछ हद तक मधुमेह से बचाव किया जा सकता है।

आपकी उम्र बढ़ने के साथ टाइप 2 डायबिटीज होने का खतरा बढ़ जाता है। विशेष रूप से 45 वर्ष की आयु के बाद आपका जोखिम बढ़ जाता है। हालांकि, बच्चों, किशोरों और छोटे वयस्कों में टाइप 2 मधुमेह की घटनाओं में नाटकीय रूप से वृद्धि हो रही है। संभावित कारकों में कम व्यायाम, मांसपेशियों में कमी और उम्र बढ़ने के साथ वजन बढ़ना शामिल है। टाइप 1 मधुमेह का आमतौर पर 30 वर्ष की आयु तक निदान किया जाता है।खराब पोषण टाइप 2 मधुमेह में योगदान कर सकता है। कैलोरी, वसा और कोलेस्ट्रॉल में उच्च आहार आपके शरीर को इंसुलिन के प्रतिरोध को बढ़ाता है।व्यायाम इंसुलिन के लिए मांसपेशियों के ऊतकों की प्रतिक्रिया को बेहतर बनाता है। यही कारण है कि नियमित एरोबिक व्यायाम आपके मधुमेह के जोखिम को कम कर सकते हैं। अपने डॉक्टर से एक व्यायाम योजना के बारे में बात करें जो आपके लिए सुरक्षित हो।

The Healthcare Today हमेशा ही आपको बढ़ती बिमारियों से सचेत करने का प्रयास करता है।इसी के साथ ही हम स्वास्थ्य  सम्बंधित  जानकारी भी आपको देते  रहते  है जो आपके लिए बहुत जरूरी है The Healthcare Today आपसे यह भी गुज़ारिश करता है कि  किसी भी सुझाव पर अमल या इलाज शुरू करने से पहले  अपने एक्सपर्ट की सलाह जरूर लें लें । हमसे जुड़ने के लिए यहां click करें 

Health News in Hindi के लिए जुड़िए हमारे FACEBOOK पेज से।

About the author

TheHealthCareToday

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

विशेष रुप से प्रदर्शित

Powered by themekiller.com