Home » Harms of weight lose » वजन घटाने के चक्कर में ये महिला न अब बोल पा रही है न चल पा रही है..
न्यूरोलॉजी स्वास्थ्य हेल्थ इंडस्ट्रीज न्यूज

वजन घटाने के चक्कर में ये महिला न अब बोल पा रही है न चल पा रही है..

पुणे/नांदेड: वजन कम करने की ये थेरपी की किसी को इतनी बड़ी कीमत चुकानी पड़ सकती है, ये अपने सोचा भी नहीं होगा। नांदेड़ की 33 साल की गौरी आत्रे को मोटापा कम करने के लिए नेचुरोपेथी पर आधारित वेट लॉस प्रोग्राम की मदद बेहद भारी पड़ गई। उनका न्यूरोलॉजिकल सिस्टम पूरी तरह बर्बाद हो चुका है। अब वह न सही से चल पा रही हैं और न ही बोल पा रही हैं। उनको सही से बैठने में भी दिक्कत महसूस होती है।

रुबी हॉल क्लिनिक, पुणे, जहां वह भर्ती थीं, के डॉक्टरों ने बताया कि उनको इसके अलावा कई और समस्या हो गई है जैसे हाथ, गले और पैर में कई ट्यूमर हो गए हैं।

नांदेड़ में आत्रे को 26 अगस्त, 2017 को निसारगंजली संस्था नाम के एक क्लिनिक में भर्ती कराया गया था। जिसमें नेचुरोपथी की मदद से मोटापा घटाने का इलाज किया जाता है। आत्रे इस संस्था में 21 दिनों तक रहीं जिसके बाद घर आ गईं और डॉक्टर की सलाह के मुताबिक दवा और लिक्विड डायट लेती रहीं।

आत्रे की मां माया भास्कर ने बताया, नवंबर के पहले सप्ताह में उनकी तबियत बिगड़ने लगी। उसने दृष्टि दोष, कमजोरी, सांस में दिक्कत और याद्दाश्त खोने की शिकायत की। इसके बाद उसको नांदेड़ के जीजामाता हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया, जहां उसकी तबियत सही नहीं हुई। फिर हम उसको अपोलो हॉस्पिटल, हैदराबाद ले गए जहां उसका 20 दिनों तक इलाज चला। वहां डॉक्टरों ने कुछ जांच करवाई और बताया कि उसका न्यूरोलॉजिकल सिस्टम तबाह हो गया है। वह पहले की तरह लिक्विड डायट भी नहीं ले पा रही है। अब वह न चल पाती है औ न बोल पाती है, सिर्फ रोती है।

बाद में आत्रे को 23 फरवरी, 2018 को रुबी हॉल क्लिनिक में भर्ती कराया गया जहां कई जांच के बाद पता चला कि अतीत की किसी घटना के कारण उनका मस्तिष्क क्षतिग्रस्त हो गया है।

About the author

TheHealthCareToday

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

विशेष रुप से प्रदर्शित

Powered by themekiller.com