Home » यहां जानें फूड स्‍टोरेज के सही तरीके, वरना हो जाएंगे बीमार..
अजब-गज़ब आहार योजना बिना श्रेणी स्वास्थ्य

यहां जानें फूड स्‍टोरेज के सही तरीके, वरना हो जाएंगे बीमार..

खाने को गलत तरीके से स्‍टोर करना हानिकारक बैक्टीरिया को दावत देता है, जो बीमारी का कारण बन सकता है. ये जीवाणु (स्टेफिलोकोकस) खाना पकाने पर भी खत्‍म नहीं होते हैं. दूषित मांस और मुर्गी से साल्मोनेला संक्रमण हो सकता है. गलत तरीके से खाना पकाना, गलत भंडारण और फ्रिज के तापमान के अनुसार खाने को स्‍टोर करना क्लोस्ट्रीडियम भोजन विषाक्तता का कारण बन सकता है. इससे दस्त, उल्टी, मतली और पेट में दर्द हो सकता है. खराब खाने और पानी से कैंप्लोबैक्टर इंफेक्‍शन हो सकता है.

फूड स्‍टोरेज कंटेनर
प्लास्टिक के कंटेनरों में खाने को गर्म करने या ठंडा करने से बचें. खाने को स्‍टोर करने के लिए कांच या स्टील के कंटेनर बेहतर ऑप्‍शन हैं. ध्‍यान रखें कि अलग-अलग तरह के खाने को अलग स्‍टोरेज की जरूरत होती है. उदाहरण के लिए, बीन्स को सामान्‍य तापमान पर एयर टाइट लिड कंटेनर में स्‍टोर करने की आवश्यकता होती है. वहीं फ्रिज में एयरटाइट कांच के कंटेनर में ड्राई फ्रूट्स को स्टोर किया जा सकता है. वे फ्रिज में 6 महीने और 1 साल के लिए स्‍टोर किए जा सकते हैं. साबूत अनाज को लगभग एक साल तक एयरटाइट कंटेनर में सूखे स्थान पर संग्रहित किया जा सकता है. डेयरी प्रोडक्‍ट को एक्‍स्‍पायरी डेट के बाद स्‍टोर नहीं करना चाहिए.
खाने की शेल्फ लाइफ
ध्‍यान रखें कि हर तरह का खाना एक सीमित समय तक ही फ्रेश रह सकता है. खाना कब तक ठीक रहेगा यह उसके प्रकार पर निर्भर करता है. प्रोडक्‍ट पर मौजूद “यूज बाए” वह तारीख है जिसके बाद भोजन का सेवन किया जा सकता है. “बेस्‍ट बिफोर” वह अवधि है जिसके बाद खाना इस्‍तेमाल नहीं करना चाहिए.

हाई रिस्‍क फूड स्‍टोरेज
पांच डिग्री सेल्सियस से नीचे खाना स्टोर करना खतरनाक हो सकता है. सुनिश्चित करें कि फ्रिज में दो वस्तुओं के बीच सही स्‍पेस हो. यह खाने में ठंडी हवा को पास करने में मदद करेगा. कच्ची मछली और मीट को पन्नी में स्टोर करें. यह खाने को बैक्टीरिया से बचाने में मदद करेगा. बहुत लंबे समय तक अंडे, मांस, मछली, दूध, क्रीम और पनीर जैसे खाद्य पदार्थों के भंडारण से बचें.

About the author

TheHealthCareToday

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

विशेष रुप से प्रदर्शित

Powered by themekiller.com