Home » Breast » ब्रेस्ट कैंसर से डरे नही स्तन की गाठ जरूरी नही कैंसर हो!
health related Latest Ayurveda News in Hindi - आयुर्वेद ब्रेकिंग न्यूज़ अजब-गज़ब जवान रहो डाइट और फिटनेस - Diet & Fitness लाइफस्टाइल स्वास्थ्य हेल्थ इंडस्ट्रीज न्यूज

ब्रेस्ट कैंसर से डरे नही स्तन की गाठ जरूरी नही कैंसर हो!

कैंसर के मामले इतनी तेजी से बढ़ रहे हैं कि लोग छोटी सी गांठ या लक्षण को भी कैंसर समझ लेते हैं. लेकिन हकीकत यही है कि ब्रेस्ट में पायी जाने वाली ज्यादातर गांठें कैंसर नहीं होती. बावजूद इसके खुद डॉक्टर बनने की बजाए एक्सपर्ट से परामर्श लेना सही रहेगा.

इन दिनों कैंसर दुनियाभर में तेजी से बढ़ रहा है और यही वजह है कि लोगों में इसको लेकर भ्रांतियां और जानकारी का अभाव भी सामने आ रहा है. चूंकि भारत में महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं लिहाजा आपके लिए यह जानना बेहद जरूरी है कि स्तनों में होने वाली सभी गांठें कैंसर नहीं होतीं.

स्तन में होने वाली गांठों के विषय में अक्सर जानकारी का अभाव रहता है. दरअसल स्तन उन ग्रन्थियों का नाम है, जिनका मुख्य काम नवजात शिशु के आहार के लिए दूध उपलब्ध कराना है. स्त्री व पुरुष दोनों में मौजूद होने के बावजूद ये ग्रन्थियां केवल महिलाओं में ही विकसित व सक्रिय रहती हैं. स्तन-विकास और सक्रियता में भी स्त्री-हॉर्मोन एस्ट्रोजेन-प्रोजेस्टेरॉन-प्रोलैक्टिन-ऑग्जीटोसिन प्रमुख भूमिका निभाया करते हैं.

 

स्तन में मिलती हैं ये चार तरह की गांठें:

  1. फायब्रोएडिनोमा: ये बेनाइन गांठ है, जो अमूमन युवा महिलाओं में मिलती हैं. स्तन का फाइब्रोएडीनोमा रेशेदार और ग्रंथिमय ऊतक से बनी, छोटी, ठोस, रबड़ जैसी, गैर-कैंसरयुक्त, हानिरहित गाँठ होती है. चूंकि स्तन कैंसर एक गाँठ के रूप में भी दिखाई दे सकता है
  2. स्तन की सिस्ट: ये भी बेनाइन द्रव से भरी मुलायम गांठें होती हैं. जो पीड़ाकारक और चिन्ताजनक हो सकती है लेकिन आम तौर पर सौम्य होती है. एक स्तन में एक या अधिक स्तन पुटियाँ हो सकती हैं. यह अक्सर अलग किनारों के साथ गोल या अंडाकार गाँठ के जैसी दिखती होती है.
  3. फायब्रोसिस्टिक: ये भी बेनाइन गांठें हैं, जो अपेक्षाकृत प्रौढ़ महिलाओं में मिलती हैं. इनमें फाइब्रस ऊतक (टिशू) भी पाए जाते हैं. फाइब्रोसिस्टिक ब्रेस्ट की समस्या से कई महिलाओं को जूझना पड़ता है. इसमें स्तनों में गांठ बन जाती है. लेकिन यह एक सामान्य स्थिति है और ब्रेस्ट कैंसर से अलग है. यह बिमारी कई महिलाओं में देखी जाती है. खासतौर पर उन युवा महिलाओं में जो अभी हाल ही में मां बनी हैं.
  4. स्तन-कैंसर:ये दर्दहीन और सभी गांठों में सर्वाधिक कड़ी गांठ होती हैं. स्तन रोग हलके या कैंसर सम्बन्धी घातक होते हैं. अधिकांश स्तन रोग कैंसरमुक्त होते हैं, जिनके होने से जीवन पर कोई खतरा नहीं होता और उन्हें उपचार की आवश्यकता नहीं होती है. परन्तु स्तन कैंसर का मतलब स्तन या जीवन का नुकसान होता है. इसी कारण से महिलाओं में स्तन कैंसर उनके जीवन पर सबसे बड़ा खतरा है.

About the author

TheHealthCareToday

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

विशेष रुप से प्रदर्शित

Powered by themekiller.com