Home » Bollywood News » पापा है नाराज़ तो अपनाए ये टिप्स मिलेगा फायदा!
health related Latest Ayurveda News in Hindi - आयुर्वेद ब्रेकिंग न्यूज़ Uncategorized अजब-गज़ब घरेलू नुस्‍खे - Gharelu Nuskhe जवान रहो डाइट और फिटनेस - Diet & Fitness लाइफस्टाइल स्वास्थ्य हेयर और ब्यूटी

पापा है नाराज़ तो अपनाए ये टिप्स मिलेगा फायदा!

Mother And Teenage Daughter Looking At Laptop Together

आजकल सब अपने मन की मर्जी करते है और बडो की बात नही मानते मां-बाप के कंट्रोल से निकल कर लूज-कंट्रोल में आना चाहते हैं. यह कितना सही और कितना गलत है, यह समझना होगा. क्योंकि यही वो उम्र है, जिसमें फोकस रहकर किशोर अपनी जिंदगी संवार सकते हैं.

बड़ों के झूठ को आसानी से पकड़ लेते हैं बच्चे

शायद ये बात टीन एज में बच्चों को समझ नहीं आती, इसलिए कुछ मां-बाप ही उन्हें सपने दिखाने और फोकस करने का बीड़ा उठा लेते हैं. फिल्म ‘दंगल’ में आमिर खान एक ऐसे ही पिता बने हैं.

हालांकि, फिल्म ‘दंगल’ में बहुत पुराना जमाना दिखाया गया है. जब लड़कियां रेसलिंग नहीं करती थीं. आमिर खान यानी कि महावीर सिंह फोगाट अपनी बेटियों गीता और बबीता को रेसलर बनाना चाहते थे. हालांकि, इसमें उनका एक स्वार्थ ये था कि अपने सपनों को अपनी बेटियों के जरिये पूरा कराना चाहते थे. अपनी बेटियों के आंखों में वो अपने सपने को देखना चाहते थे. पर उनकी बेटियों को भी रेसलर ही बनना है, यह बात तब तय हुई, जब गीता और बबीता ने कुछ लड़कों की पिटाई की और इसकी शिकायत आमिर खान यानी कि महावीर सिंह फोगाट तक पहुंची.

बच्चों से कभी न कहें ये 5 बातें

उनके पेरेंट्स उनसे क्या चाहते हैं. फिल्म ‘दंगल’ में महावीर सिंह ने अपनी बच्च‍ियों के उस हुनर को देख लिया था, जिसे उनकी बेटियां समझ नहीं पा रही थीं. गीता और बबीता अपनी दोस्त की शादी में जाती हैं और वहां उनकी दोस्त यह समझाती है कि तुम्हारे पिता कम से कम तुम्हें कुछ बनाना चाहते हैं, मेरे पिता तो बस मेरी शादी कर छुटकारा चाहते हैं. ये बात तब उन्हें समझ में आती है.

हर बात के दो पहलू होते हैं, इस बात को समझें. खुले दिमाग से सोचें कि कहीं आपके पिता सही तो नहीं कह रहे हैं. किसी काउंसलर के पास बैठें. अपनी पॉजिटिव और निगेटिव चीजों को नोट डाउन करें. किसी दोस्त या शुभचिंतक से सलाह लें.

अगर आपके सपने अपने पिता के सपनों से अलग हैं तो खुलकर उनसे बात करें. आप किस क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहते हैं, उसके लिए आप कितने दक्ष हैं आदि सारी बातें खुलकर उनके सामने रखें. वो समझेंगे.

अगर वो फिर भी ना समझें तो दोनों किसी एक्सपर्ट या काउंसलर के पास जाएं और बेहतर राय मांगे.

ओवर कॉन्फ‍िडेंस ना रखें. कई बार आप जो नहीं समझ पाते या जो नहीं देख पाते, माता-पिता वो समझ लेते हैं. फिल्म ‘दंगल’ में महावीर सिंह की बड़ी बेटी जब गांव लौटती है, जब महावीर से रेसलिंग करती है. इससे उसका ओवर कॉन्फ‍िडेंस झलकता है. उनके अनुभवों का मान रखें और कोई ऐसा कदम ना उठाएं जिस पर आपको पछतावा हो.

बाल बढ़ाना, सजना-संवरना गलत नहीं है और ना ही गोलगप्पे खाना गलत है. पर इसमें समय ज़ाया होता है, इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता. अगर आपके टीन एज में आपके माता-पिता नहीं चाहते कि आप ज्यादा अपनी सुंदरता या लुक्स के ऊपर ध्यान दें तो इसका मतलब ये है कि वो चाहते हैं कि आप अपनी पढ़ाई या एम्बीशन के प्रति फोकस्ड रहें.

अपने माता-पिता को ये समझाने की कोशिश करें कि फोकस के लिए स्ट्र‍िक्टनेस जरूरी नहीं है, बल्कि डिसिप्लीन की जरूरत होती है. जिंदगी में कुछ बनने के लिए डिटरमाइंड होना जरूरी है.

About the author

TheHealthCareToday

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

विशेष रुप से प्रदर्शित

Powered by themekiller.com