Home » जानें कैसे टाईट कपड़ों से बिगड़ सकती है सेहत..
बिना श्रेणी लाइफस्टाइल स्वास्थ्य

जानें कैसे टाईट कपड़ों से बिगड़ सकती है सेहत..

अपने बढ़े हुए पेट को छिपाने या थाईज को पतला दिखाने के लिए आप भी शेपर पहनने की शौकीन हैं तो सावधान हो जाएं। यही नहीं टाइट जींस, स्कर्ट या ड्रेस पहन कर भले ही खुद को आप स्मार्ट और ब्यूटीफुल दिखा लें, लेकिन आपका ये तरीका आपको धीरे-धीरे बीमार बना सकता है।

लो वेस्ट जींस दे सकती है पीठ और पेट में दर्द : लो वेस्ट टाइट जीन्स का सीधा असर पीठ पर पड़ता है और इससे पीठ की नसें दबने लगती हैं। इसी कारण कई बार पीठ में दर्द रहने लगता है। इतना ही नहीं टाइट कपड़ों से स्किन प्रॉब्लम भी हो सकती है। फीटेड टाइट जींस पहनने की वजह से ब्लड सर्कुलेशन और नर्वस सिस्टम भी प्रभावित होता है। पेट से चिपके रहते है और पेट पर प्रेशर डालते है। जिससे पेट में दर्द होने लगता है।ऐसे कपड़े डायजेशन पर भी असर डालते हैं।

बेहोशी का आना : शेपर पहनने से कई बार सांस लेने में दिक्कत होती है और ये बेहोशी की वजह तक बन सकती है। अगर लंबे समय तक इसे पहना जाए तो ये ब्लड सर्कुलेशन को भी इफेक्ट करता है।

झंझनाहट या सुन्नपन बढ़ना : टाइट जींस या लेगिंग्स पहनने से पेट के ऊपर दबाव पड़ता है जिसके कारण फूड पाइप में एसिड बनने लगता है। इससे घबराहट होने लगती है। टाइट जीन्स की वजह से जांघ की नसे दब जाती है, जिससे उनमे झनझनाहट, सुन्नपन और जलन होने लगती है।

मासपेशियों पर प्रभाव : लंबे समय तक टाइट कपड़े पहनने से रीढ़ की हड्डी, पेट और कमर के निचले हिस्से की मांसपेशियां कमजोर हो जाती है। इसके अलावा पेट, कमर और पैरों में दर्द हो सकता है। टाइट जींस पहनकर सारा दिन खड़े रहते हैं तो इससे पैरों में कमजोरी हो सकती है।

बॉडी पॉश्चर होगा खराब : टाइट फिटिंग वाली जींस, स्कर्ट्स और दूसरे टाइट ड्रेसेज से न सिर्फ आपको चलने-फिरने में परेशानी पैदा करते हैं बल्कि इससे आपके बॉडी शेप और पॉश्चर पर भी असर पड़ता है।

यीस्ट इन्फेक्शन का खतरा : टाइट जींस या शेपर पहनने प्राइवेट पार्ट्स में नमी बनी रहती है और इससे कैंडिडा यीस्ट इंफेक्शन का खतरा बढ़ा जाता है। खुजली और दर्द भी हो सकता है। ये इन्फेक्शन लडको में ज्यादा होता है क्योकि वह बहुत ही टाइट पेंट को पहनते है।

About the author

TheHealthCareToday

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

विशेष रुप से प्रदर्शित

Powered by themekiller.com